Somnath Temple in Gujarat, India

IndiaWorld on the Net

इंडिया वर्ल्ड ऑन दि नेट

भारत और भारत से संबंधित ख़बरों के साथ

Somnath Temple in Gujarat, India

हिंदी साइट

What's

व्यंग्य - शहीद होने का अंजाम [download as PDF ]

मुशर्रफ़ ने अब कहा : कश्मीर के समाधान का आधार धर्म नहीं [पढ़ें]

चीन में भ्रष्टाचार रोकने के नये उपाय पर विवाद : अधिकारियों के निजी जीवन में सरकारी हस्तक्षेप का विरोध [पढ़ें]

भारत में छद्म धर्मनिरपेक्षता - एक आलेख !! [पढ़ें][PDF file]

काका की फुलझड़ियाँ - काका की कविताओं का एक छोटा सा संग्रह [पढ़ें]

History: The shade of swords - Attrocities in India by the Portuguese Aggresors [more]

Arun Shourie: De-nationalisation of India, Macaulay's education and the role of pseudo secularism [more]

"Indian leaders are like abused wives" [more]

Rabri's kins asked to vacate official bunglows [more]

Doublespeak masterpiece: US double-standards on weapons sale [more]

Hindi: पोप की मृत्यु पर भारत मे॑ राष्ट्रीय शोक – धर्मनिरपेक्षता के नाम पर भौ॑डा मज़ाक ( The rampant pseudo secularism in India) [article as PDF]

The Indian pseudo secularism: a bitter joke [more]

China, India plan a free trade area [more]

Jobless in Germany? Check out the local brothel [more]

Sikh body demands ban on portrayal of community in 'bad light' as object of fun and ridicule [more]

CPM wants Delhi to boycott Israel [more]

China woos India's neighbours, trying to hijack SAARC [more]

China and India eye cooperation despite suspicions [more]

Pakistan and Italy join hands against UN reforms [more]

Indian communists finally discover 'Bharat' [more]

Rolls Royce to return to India with Rs. 3 Cr. model [more]

Indian pilots to match skills against F-16s [more]

Pakistan to get free F-16s from USA [more]

China pats friend Pakistan for getting F-16s [more]

The Narendra Modi controversy [more]

US decides to give F-16s to Pak, India disappointed [more]

US balancing act: F16s for Pakistan, F18s for India [more]

VIP security: Black Cats to be replaced by Black Panthers [more]

Sify full coverage: Tsunami strikes deadly blow in South Asia [more]

Weather in Hamburg

 

व्यंग्य - शहीद होने का अंजाम

शहीद होने की व्यर्थता

( नेताओं द्वारा शहीदों का शोषण )

कंधे पर लदे बेताल ने विक्रमादित्य से कहा, राजन, मेरे एक प्रश्न का उत्तर दो
अन्यथा तुम्हारा सर धड़ से अलग हो जायेगा, तुम्हारा अस्तित्व हमेशा के लिये खो जायेगा

आज मैंने अख़बार में पढ़ा,
एक महिला, जिसका पति देवता होकर आदमी की तरह जिया
इसी अपराध पर किसी ने उसे सम्मान नहीं दिया,
गले में सदाचार का तावीज़ लटकता रहा, इसीलिये मास्टर बन कर दर-ब-दर भटकता रहा
हर साल करता रहा, गायत्री का जाप, हर साल बनता रहा, लड़कियों का बाप
इस साल बजरंग का पांव छुआ, तो उसकी पत्नी को पत्थर का टुकड़ा हुआ
इसका क्या कारण है?

विक्रमादित्य चौंका, बीड़ी का ज़ोरदार कश लिया,
और उसके प्रश्न का उत्तर यूं दिया :
सुन बेताल, उस औरत के पूर्वजन्म का हाल
वो औरत एक शहीद की माँ थी, देशभक्ति की परंपरा उसके यहाँ थी
जीवन भर सैनिकों की वर्दियां सींती रही, बेटे को शहीद देखने की तमन्ना में जीती रही
ख़ून को देती रही पसीने का कर्ज़, बढ़ता रहा देशभक्ति का मर्ज़

मेघदूत युद्ध का संदेश लाया, संगीनों ने आषाढ़ गाया
बेटा सरहदों पर सर बो गया, इतिहास की ग़ुमनाम वादियों में हमेशा के लिये खो गया
माँ अपने सौभाग्य पर मुस्कराती रही, बेटे की तस्वीर को फ़ौज़ी लिवास पहनाती रही
रोज़ पढ़ती रही अख़बार, ढूंढती रही, बेटे के शहीद होने का समाचार
नेताओं की आदमकद तस्वीरें हंसंती रहीं

इतिहास में शासक को जगह मिलती है, शहीदों को नहीं
जो इतिहास के पन्ने सींते हैं, वो इतिहास पर नहीं, सुई की नोंक पर जीते हैं
भूगोल होता है जिनके रक्त से रंगीन, उनके बच्चों को मयस्सर नहीं दो ग़ज ज़मीन
शहादत कहाँ तक अपना लहू पीती रही? केवल शहीद को जन्म देने के लिये जीती रही?

स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया उनका नाम,
जो बेचते रहे शहीदों का ख़ून, बढ़ाते रहे चीज़ों के दाम
इत्र में नहाते रहे, शहीदों के ख़ून की खुशबू छुपाते रहे

कुर्सी-पुत्रों ने बड़े कष्ट झेले,
शहीदों की लाशें सरहदों पर पड़ी रही नंगीं, और इनके बंगलों पर लगे रहे मेले
वो उधर कफ़न को तरसते रहे, इन पर ग़ुलाबों के फूल बरसते रहे
पूरे दो मिनट तक खड़े रहे मौन, „पी.ए.“ से पूछते रहे: मर गया कौन?
„पी.ए.“ बोला, मुझसे पूछते हैं आप?
अरे इसी दिन तो मरे थे आपके बाप !
हम तो उन्हीं का मातम मना रहे हैं, लगे हाथ शहीदों को भी निपटा रहे हैं

आप भी आँसुओं का „रिज़र्व-स्टॉक“ निकालिये,
एक शहीद-स्मारक की घोषणा कर डालिये
आपकी बिल्डिंग अधूरी पड़ी है, जनता चंदा लेकर खड़ी है
कहिये, क्या इरादा है आपका?
शहीद मर के भी होता है सवा लाख का
सिर्फ़ कहने को समाधि में सोता है
वरना शताब्दियों तक हमारा बोझ ढोता है
आज्ञा दीजिये, किस शहीद को जगाऊँ? या, अपनी फ़ाइलों में एक नया शहीद बनाऊँ?
जिसका बलिदान हमारे लिये चंदा उगाये
और हर चुनाव में „स्टैच्यू“ बन कर खडा हो जाये

तो सुन बेताल, आगे का हाल
शहीद स्मारक के लिये किये गये चंदे
मगर आसमान से उतरे हुये ईश्वर के ये बंदे
चंदे की थैलियां भी ले गये, शिलान्यास का खाली पत्थर दे गये
माँ जिसे छाती से लगाकर सो गयी
खुद शहीद का स्मारक हो गयी
ममता ने उसी का बदला लिया है
सीमा पर लड़ने के लिये शहीद नहीं,
शिलान्यास का पत्थर दिया है!

रचना : अज्ञात
स्रोत : ओशो रजनीश के एक प्रवचन से साभार उद्धृत

[Download as PDF]

This excellent, Hindi-language satire “SHAHEED” (English: Martyr) depicts in a telling manner the pathetic situation, in which innocent people are sometimes (or rather often?) lured into fighting for dogmas, ideologies and other supposedly “noble” causes. The concept of “martyrdom” is regularly misused by vested (political, communal and pseudo-religious) interests world-wide for own petty goals and ambitions. Newspapers are so full of such reports so that any person willing to see this bitter truth can observe it without much trouble.
It is certainly not to deny that in certain instances there might actually be a need for patriotic duty and/or sacrifice. But any objective study will show that such a situation does not occur as regularly as the ever-present call for “SHAHADAT” (martyrdom) in the name of hundred thousand (when not millions) of causes would like to make us believe.

Note: This satire is reproduced here for purely informational purposes. In case you are aware of its author, please inform editor@india-world.de, so that due credits may be given. In case of problems with the display of Hindi fonts, please inform: webmaster@india-world.de.

About Us | Site Map | Disclaimer - महत्वपूर्ण सूचना | Contact Us | ©2006 Rajnish Tiwari | Last updated: 18. Feb 2006, 15:15 CET

This site is optimised for Internet Explorer 6.0 and a display of 1024x768 pixels. 
No responsibility is taken for the content of external sites, whose links have been provided here. Further, views expressed in external articles are not necessarily shared by IndiaWorld on the Net.
Though every care is taken to ensure the accuracy of the information, no guarantee can be taken for the same.
Please refer to authoritative sources to check the accuracy before utilising it.
Contact: webmaster@india-world.de